Live 7 TV
सनसनी नहीं, सटीक खबर

बालू व पत्थर से लदे वाहनों चालक व मालिक के खिलाफ एफआइआर दर्ज

- Sponsored -

रामप्रसाद सिन्हा
पाकुड़: लंबे अर्से बाद खासकर बालु एवं पत्थरो के अवैध परिवहन में शामिल वाहनो के चालक और मालिको के खिलाफ खनन राजस्व की क्षति एवं सरकारी सम्पत्ति की चोरी की धाराओ के तहत थाने में एफआइआर दर्ज हुआ है। पाकुड़ नगर एवं मालपहाड़ी ओपी क्षेत्र में बीते 13 फरवरी को जिला टास्क फोर्स के संयोजक सह एसडीओ पंकज कुमार के नेतृत्व में बालु एवं पत्थर के अवैध परिवहन पर रोक लगाये जाने को लेकर छापेमारी अभियान चलाया गया था। चलाये गये इस अभियान के तहत बालु से लदे चार एवं पत्थर से लदे 6 टेªक्टरो को जप्त किया गया था। जप्त किये गये इन्ही वाहनो के चालको और मालिको के खिलाफ मालपहाड़ी ओपी एवं नगर थाने में प्राथमिकी दर्ज करायी गयी है। प्राथमिकी खान निरीक्षक पिंटु कुमार के लिखित बयान पर दर्ज किया गया है। यहां उल्लेखनीय है कि बीते कई वर्षो से अवैध पत्थर उत्खनन और परिवहन में शामिल सैकड़ो वाहनो को जिला टास्क फोर्स की टीम के अलावे परिवहन पदाधिकारी, मोटरयान निरीक्षक, खनन पदाधिकारी द्वारा जप्त किये गये थे और सभी वाहनो के मालिको से जुर्माना की राशि वसुलकर उन्हे छोड़ दिया गया था। सख्त कार्रवाई नही किये जाने के कारण पत्थर व बालु माफिया बेधड़क अवैध परिवहन कर रहे थे। अवैध परिवहन पर रोक लगाये जाने को लेकर लंबे अर्से बाद वाहन चालको और मालिको के खिलाफ एफआइआर दर्ज कराने की कार्रवाई की गयी है। ज्ञात हो कि हाल में ही डीसी वरूण रंजन की अध्यक्षता में खनन जिला टास्क फोर्स की बैठक हुई थी। बैठक में पुलिस अधीक्षक हृदीप पी जनार्दनन के अलावे टास्क फोर्स में शामिल पदाधिकारी और सदस्य मौजूद थे। अधिकारियो की मौजूदगी में ही डीसी एवं एसपी ने अवैध उत्खनन और परिवहन में शामिल लोगो के खिलाफ न केवल एफआइआर दर्ज कराने का निर्देश दिया था बल्कि पूर्व में अवैध उत्खनन में शामिल पत्थर माफिया जिनकी गिरफ्तारी नही हो पायी है उनकी गिरफ्तारी सुनिश्चित करने का भी निर्देश दिया था। हालांकि पत्थरो के अवैध उत्खनन में शामिल माफिया जिनके खिलाफ बीते 6 महिने के अंतराल में एफआइआर दर्ज कराया गया है वे आज भी मोछ में ताव देकर प्रशासनिक महकमा को अपनी हनक और खनक का एहसास करा रहे है। बालु एवं पत्थरो के हो रहे अवैध परिवहन में शामिल माफियाओ से सिर्फ जुुर्माना वसुलने और इनके खिलाफ एफआइआर दर्ज नही कराये जाने के मामले को दैनिक सन्मार्ग ने प्रमुखता से प्रकाशित किया था। खबर छपने के बाद प्रशासन हरकत में आया और 10 वाहनो को जप्त करने के साथ ही उसके चालक और मालिक के खिलाफ एफआइआर भी दर्ज करायी गयी है।

Looks like you have blocked notifications!

- Sponsored -

- Sponsored -

Comments are closed.