Live 7 TV
सनसनी नहीं, सटीक खबर

घनुडीह लोडिंग पोइन्ट बंद होने से 500 ट्रक लोडर मजदूर हुये बेरोजगार

घनुडीह के ट्रक लोडर मजदूरों ने झामुमो के नेतृत्व में किया प्रेसवार्ता

झरिया मोहमद एकराम

झरिया: झामुमो के महानगर कमेटी धनबाद के संयुक्त सचिव राधेश्याम बाल्मीकि के नेतृत्व में घनुडीह लोडिंग पॉइट के ट्रक लोडर मजदूरों ने मोहरिबान्ध के समीप प्रेस वार्ता किया . झामुमो नेता राधेशश्याम बाल्मीकि ने कहा कि महाप्रबंधक बस्ताकोला द्वारा घनुडीह परीयोजना को केओसीपी में मर्ज कर दिया गया ,जिसके कारण घनुडीह के 500 ट्रक लोडर मजदूर बेरोजगार हो गए. और मजदूरों के समक्ष भुखमरी की स्थिति खड़ी हो गई . घनुडीह के कोयला से गोलकडीह डंप के मजदूर से दुगुना लाभ मिल रहा है .सैकड़ों एकड़ जमीन व मशीन केओसीपी को हस्तांतरित कर दी गई. जिसके कारण घनुडीह के लोडिंग पॉइंट को भी केओसीपी एन सी पेच पार्ट टू परियोजना के उत्खनन क्षेत्र में चला गया . जिस समय घनुडीह के शोवेल मशीन ,डंपर व मशीन आदि केओसीपी को हस्तांतरित किया जा रहा था उस समय ट्रक लोडर मजदूरों ने प्रदर्शन किया था . जिसमें प्रबंधन ने घनुडीह ट्रक लोडर मजदूरों से वादा किया था कि नया जगह से कोयला निकलने पर ट्रक लोडिंग के लिए रोजगार उपलब्ध कराया जाएगा . लेकिन सभी मजदूर वर्षो बाद भी ठगा महसूस कर रहे हैं .क्योंकि 5 वर्षों से मजदूरों के समक्ष रोजगार नहीं है. जबकि मजदूरों के पास तत्कालीन उपायुक्त सुधीर कुमार के द्वारा जारी परिचय पत्र भी है. ताकि रोजगार मजदूरों का सुरक्षित रहे लेकिन बस्ताकोला क्षेत्रीय प्रबंधक ट्रक लोडर मजदूरों के साथ अन्याय कर रहा है .मजदूरों ने अपनी समस्या को लेकर झामुमो विधायक मथुरा प्रसाद महतो से भी मिले थे. विधायक ने उपायुक्त को समस्या की जानकारी दी थी जिसके बाद उपायुक्त ने झरिया सीओ को वस्तुस्थिति की रिपोर्ट देने को कहा ,लेकिन लोकडाउन लगने के बाद कोई सकारात्मक पहल नहीं हो रहा है .जिसके कारण घनुडीह के ट्रक लोडर मजदूरों के समक्ष आक्रोश बढ़ता जा रहा है. घनुडीह लोडिंग पॉइंट के मजदूरों को जनता मजदूर संघ के दोनों गुटों ने बेवकूफ बनाया. मजदूरों को जो रोजगार उपलब्ध कराएंगे मजदूर उनके साथ खड़े रहेंगे .शीघ्र समस्या का समाधान नहीं हुआ तो बस्ताकोला क्षेत्र का चक्का जाम करेंगे .मौके पर सिकंदर मंडल ,नंदू भुइया, भगवानदास मंडल, महेश महतो, किशोरी रविदास, दीपक साव, सतनारायण आदि उपस्थित थे

बाईट: संयुक्त सचिव राधेश्याम बाल्मीक

Looks like you have blocked notifications!

Leave a Reply