Live 7 Bharat
जनता की आवाज

धनबाद समाहरणालय में हुआ प्रधानमंत्री कार्यक्रम का आन लाइन प्रसारण

- Sponsored -

वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए पीएम केयर्स फॉर चिल्ड्रेन योजना पर दी गई जानकारी
माता पिता खोने वाले बच्चों को सशक्त व आत्मनिर्भर बनाना योजना का उद्देश्य: पशुपतिनाथ
धनबाद: वैश्विक महामारी कोविड-19 में माता पिता खोने वाले अनाथ बच्चों के लिए पीएम केयर्स फॉर चिल्ड्रन योजना लागू की गई है। सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से योजना के विभिन्न पहलुओं पर प्रकाश डाला और बच्चों के बैंक खातों में पीएम केयर्स फंड से छात्रवृत्ति की राशि भेजी। प्रधानमंत्री के कार्यक्रम का आॅनलाइन प्रसारण धनबाद समाहरणालय में किया गया। इस दौरान उन बच्चों को प्रधानमंत्री का स्नेह पत्र (पीएम केयर्स का प्रमाण पत्र), पीएम केयर्स फॉर चिल्ड्रेन की पासबुक, आयुष्मान भारत योजना का हेल्थ कार्ड प्रदान किया गया। इस अवसर पर उपस्थित धनबाद के सांसद पशुपतिनाथ सिंह ने कहा कि कोरोना काल में अपने माता पिता को खोने वाले बच्चों को सशक्त बनाने, उनकी देखभाल और सुरक्षा सुनिश्चित करना इस योजना का उद्देश्य है। ऐसे बच्चों को शिक्षा और स्कॉलरशिप के जरिए सशक्त बनाने के साथ 23 साल की उम्र में 10 लाख रुपए की वित्तीय सहायता देकर उन्हें आत्मनिर्भर बनाना है। यह योजना हेल्थ इंश्योरेंस के जरिए ऐसे बच्चों की सेहत का भी ख्याल रखती है। इसके तहत उन्हें 5 लाख रुपए का हेल्थ इंश्योरेंस मिलेगा।
बच्चों के शिक्षा के लिए पीएम केयर्स करेगा मदद : डीसी
उपायुक्त संदीप कुमार ने कहा कि यदि बच्चे को प्रॉफेशनल कोर्स के लिए, हायर एजुकेशन के लिए एजुकेशन लोन चाहिए होगा, तो पीएम केयर्स उसमें भी मदद करेगा। रोजमर्रा की दूसरी जरूरतों के लिए अन्य योजनाओं के माध्यम से 4 हजार रुपए हर महीने की व्यवस्था भी की गई है। वहीं 18 से 23 साल के युवाओं को हर महीने स्टाइपेड मिलेगा और जब वे 23 साल के होंगे तब 10 लाख रुपये उनको एक साथ मिलेंगे। योजना में प्रत्येक बच्चे को 20 हजार रुपये की स्कालरशिप देने की व्यवस्था है। आज बच्चे को आयुष्मान भारत-प्रधान मंत्री जन आरोग्य योजना के तहत पीएम केयर्स फार चिल्ड्रेन पासबुक, हेल्थ कार्ड, माननीय प्रधानमंत्री का पत्र, स्नेह पत्र प्रदान किया गया। कार्यक्रम में सांसद धनबाद पशुपतिनाथ सिंह, उपायुक्त संदीप सिंह, डीडीसी शशि प्रकाश सिंह, विधायक धनबाद के प्रतिनिधि मनोज मालाकार, डीएसडब्ल्यूओ स्नेह कश्यप, जिला बाल संरक्षण पदाधिकारी साधना सिंह, किशोर न्याय बोर्ड की सदस्य पूनम सिंह, प्रोटेक्शन आॅफिसर आनंद कुमार, सीडब्ल्यूसी के मीरा सिंह,प्रेम कुमार,ममता अरोरा, लीगल कम प्रोबेशन आॅफीसर विश्वंभर पोद्दार सहित अन्य लोग उपस्थित थे।

Looks like you have blocked notifications!

- Sponsored -

- Sponsored -

Comments are closed.

Breaking News: