Live 7 TV
सनसनी नहीं, सटीक खबर

इचाक गोदाम से उठा 2904 क्विंटल चावल, 4 किलोमीटर की दूरी तय करते ही हुआ 10 क्विंटल

- Sponsored -

इचाक मोड़ : कोरोना काल में गरीबों को मुफ्त आनाज उपलब्ध कराने की सरकारी योजना पर अनाज माफिया और विभागीय अधिकारी मिलकर पानी फेर रहे हैं। गरीबों का अनाज धड़ल्ले से कालाबाजारी हो रहा है और खाद्य आपूर्ति विभाग के अधिकारियों को पता तक नहीं चलता। जब इस तरह का मामला प्रकाष में आता है तो विभागीय अधिकारी एक दूसरे के मत्थे पर जिम्मेवारी का ठिकरा फोड़ कर अपने आप को बचाने में जुट जाते हैं। इचाक में अनाज की कालाबाजारी का एक चौकाने वाला मामला सामने आया है। 20 जुलाई को झारखंड राज्य खाद्य निगम के इचाक गोदाम से 2904 चावल करियातपुर पंचायत के असिया गांव के जनवितरण प्रणाली के विक्रेता जयप्रकाष मेहता के नाम पर उठा, चार किलोमीटर की दूरी तय करने के बाद यह चावल 10 क्वींटल हो गया बाकी चावल कहां गया इसकी जानकारी न तो विभाग के आपूर्ति पदाधिकारी दे रहे हैं और न ही रास्ते में पकड़कर पूछताछ करने वाली पुलिस। बताते चलें कि वाहन (जेएच 02 ए डब्लू 0419) पर 2904 क्वींटल अनाज गरीबों के नाम पर उठा। पुलिस को जानकारी मिली की अनाज की कालाबाजारी होने वाली है। बोधी बागी के निकट पुलिस ने गाड़ी रोका, गाड़ी पर 20 पैकेट चावल यानि 10 क्वींटल अनाज मिले बाकी अनाज कहां अनलोड किया गया किसी को कोई जानकारी नहीं है। संबंधित डीलर से फोन कर मामले की जानकारी लेने का प्रयास किया गया तो उसके बेटे ने फोन उठाया और उसने कहां कि उसके पापा ने 10 क्वींटल चावल ही गोदाम से उठाया है।
क्या कहते हैं थाना प्रभारी-
इचाक थाना प्रभारी देवेंद्र कुमार ने बताया कि मामले की जानकारी मिली है। रात्रि गस्ती पार्टी ने शक के आधार पर चावल लोड वाहन को रोककर जांच की थी। जांच में पता चला कि राशन आसिया गांव के जविप्र डीलर जय प्रकाश मेहता का है। गोदाम से आसिया गांव कि दूरी महज सात किलोमीटर है। वाहन को साढ़े आठ बजे रात बोधीबागी में पुलिस ने जांच-पड़ताल के लिये रोका था। प्रखंड मुख्यालय से बोधीबागी की दूरी महज साढ़े चार किलोमीटर है। 15 मीनट का रास्ता तय करने में अनाज लदे गाड़ी को दो घंटा कैसे लगा और रात में अनाज का उठाव क्यों किया गया, 6 बजे संध्या के बाद गोदाम कैसे खोला गया यह जांच विषय है?
क्या कहते हैं एमओ
इस सम्बंध में एमओ केएन झा ने बताया कि एक डीलर को जितना अनाज भेजना रहता है। चालान भी उतना का ही बनता है। पीडीएस दूकान की जांच के बाद ही इस मामले में विस्तृत जानकारी दी जा सकती है।
क्या कहती है बीडीओ
इचाक बीडीओ रिंकू कुमारी ने कहा कि मुझे कोई जानकारी नही है। इसके बारे में एमओ ही बता सकते हैं।
क्या कहते हैं गोदाम के ठीकेदार
डोर स्टेप डिलीवरी अभिकर्ता जीतू ठाकुर उर्फ जितेंद्र कुमार ने बताया कि चावल पीडीएस डीलर जयप्रकाश मेहता का हैं सहायक गोदाम प्रबंधक गोदाम के एजीएम कुणाल भारती ने बताया कि चावल गोदाम से ही निकला है। जिसे आसिया के जय प्रकाश मेहता के दुकान पहुंचाने के लिये जा रहा था। शाम में ही गाड़ी छोड़ा गया था।

Looks like you have blocked notifications!

- Sponsored -

Leave a Reply