Live 7 TV
सनसनी नहीं, सटीक खबर

भारत-चीन सैन्य कमांडरों के बीच 13 वें दौर की बातचीत कल

- Sponsored -

नयी दिल्ली : भारत और चीन के बीच पूर्वी लद्दाख में लंबे समय से चले आ रहे गतिरोध को समाप्त करने के लिए दोनों देशों के सैन्य कमांडरों की तेरहवें दौर की बातचीत रविवार को होगी। चीन की सीमा में मोल्दो गैरिसन में सुबह साढे दस बजे शुरू होने वाली इस बातचीत में सैनिकों को पीछे हटाने के तीसरे चरण और वास्तविक नियंत्रण रेखा पर तनाव कम करने के उपायों पर चर्चा होने की संभावना है। इसके तहत दोनों पक्षों के बीच हॉट स्प्रिंग , देप्सांग और डेमचोक से सैनिकों को पीछे हटाने के मुद्दों पर मुख्य रूप से चर्चा होने की संभावना है।
सूत्रों के अनुसार बातचीत में चीन की ओर से दक्षिण जिन्ज्यांग मिलिट्री डिस्ट्रिक्ट कमांडर तथा भारत की ओर से लद्दाख कोर कमांडर के हिस्सा लेने की संभावना है। दोनों पक्षों के बीच बारहवें दौर की बातचीत गत 31 जुलाई को हुई थी।
दोनों देशों के बीच यह वार्ता वास्तविक नियंत्रण रेखा के निकट अरुणाचल प्रदेश में त्वांग सेक्टर के यांगत्से में पिछले सप्ताह मामूली झड़प के बाद हो रही है। दोनों सेनाओं के सैनिकों का नियमित गश्त के दौरान आमना सामना हुआ और कहासुनी भी हुई। सूत्रों का कहना है कि सीमा रेखा का निर्धारण नहीं होने के कारण वास्तविक नियंत्रण रेखा की दोनों देशों की अपनी-अपनी अलग अवधारणा के कारण इस तरह के टकराव होते रहते हैं और इनका स्थानीय स्तर पर समाधान कर लिया जाता है। इस मामले में भी टकराव का स्थानीय स्तर पर बातचीत के बाद समाधान कर लिया गया और इस दौरान किसी भी तरह की क्षति नहीं हुई। बारहवें दौर की बैठक में पूर्वी लद्दाख में नियंत्रण रेखा से लगते क्षेत्रों में बाकी बचे विवादास्पद मुद्दों का मौजूदा समझौतों तथा प्रोटोकॉल के तहत जल्द से जल्द समाधान करने पर सहमति बनी थी।बैठक के संयुक्त वक्तव्य में कहा गया था कि दोनों पक्षों ने भारत चीन सीमा क्षेत्र के पश्चिमी सेक्टर में नियंत्रण रेखा से लगते क्षेत्रों से सैनिकों के पीछे हटाये जाने से संबंधित बचे हुए मुद्दों के समाधान पर स्पष्ट रूप से और गहराई से विचारों का आदान प्रदान किया। दोनों पक्षों ने कहा है कि बातचीत का यह दौर रचनात्मक रहा जिससे परस्पर समझ और विश्वास बढ़ा है। उन्होंने बाकी बचे हुए मुद्दों का मौजूदा समझौतों और प्रोटोकॉल के तहत जल्द समाधान करने और संवाद तथा बातचीत की प्रक्रिया को बनाए रखने पर सहमति जतायी।दोनों पक्षों ने इस बात पर भी सहमति व्यक्त की कि वे पश्चिमी सेक्टर में नियंत्रण रेखा पर शांति और मैत्री का माहौल बनाये रखने के प्रयास जारी रखेंगे।

Looks like you have blocked notifications!

- Sponsored -

- Sponsored -

Comments are closed.