Live 7 TV
सनसनी नहीं, सटीक खबर

व्यक्ति जब परिवार से हार जाता है तब भगवान को याद करता है: पं. विष्णुधर

- Sponsored -

गढ़वा: शहर के बिशुनपुर में श्रीमद् भागवत कथा ज्ञान सप्ताहिक यज्ञ के दौरान कथावाचक व्यास पंडित विष्णुधर द्विवेदी ने गजेंद्र मोक्ष की कथा को बताते हुए कहा कि यह मनुष्य ही गजेंद्र है और उसका परिवार विजेंद्र है। व्यक्ति जब परिवार से हार जाता है तब भगवान को याद करता है। पं. द्विवेदी ने समुद्रमंथन प्रसंग की व्याख्या करते हुए कहा कि जब देव बुद्धि से हम अपना आत्म मंथन करेंगे तो अमृत निकलेगा और यदि राक्षसी वृत्ति से मंथन करेंगे तो विष निकलेगा। उन्होंने राज बलि व बामन चरित्र को सुनाते हुए बताया कि यह एक गुरु और शिष्य का चरित्र है कि जब तक शिष्य के ऊपर गुरु की कृपा थी तब तक विराट पुरुष बौना लग रहा था और जैसे ही गुरु की कृपा हटी वैसे ही बवाना पुरुष विराट होकर सब कुछ ले लिया। मौके पर डा. सुरेश चंद्र, राजकुमार, इंद्रावती, अनीता, संतोष कुमार, मंजूषा देवी, अमित कुमार, जागृति देवी, अजीत कुमार, निधि देवी, सत्रोहन आचार्य महेंद्र देव पांडेय, विजय शंकर दुब, बेटू पांडेय, कृपा शंकर मिश्रा, अनूप, श्यामा दुबे सियाराम पांडेय कन्हाई राम सुखबीर पाल संजय कुमार गुप्ता अभिमनयू चैबे, बबलू ठाकुर, केदार प्रसाद, रघुपति सिंह, अरविंद तिवारी, रामनरेश प्रसाद, विजय चैधरी, शत्रुघन कुमार गुप्ता, डॉ सुरेश प्रसाद आदि उपस्थित थे।

Looks like you have blocked notifications!

- Sponsored -

- Sponsored -

Comments are closed.