Live 7 TV
सनसनी नहीं, सटीक खबर

राजनीति- समाजवादी भाजपा दो अंतिम इटावा

- Sponsored -

असल मे भारतीय जनता पार्टी के सहयोगी संगठन करीब 5 साल से इटावा से समाजवादी प्रभाव को नाकाम करने की दिशा मे सक्रिय भूमिका अदा करने जुटे हुए है । इसी कडी मे साल 2016 के मई मे इटावा में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ का 22 दिवसीय संघ शिक्षा वर्ग का आयोजन कराया गया जिसके जरिये 2017 के विधानसभा चुनावो मे अहम भूमिका अदा करने का इरादा था जिसके तहत भाजपा के इटावा सदर और भरथना सुरक्षित सीटो पर कब्जा करके अपने पक्ष मे माहौल भी बनाया ।

आरएसएस के 95 वर्ष के इतिहास में पहली बार इटावा में संघ का कोई कार्यक्रम आयोजित हुआ । आरएसएस के पथसंचलन पर मुस्लिमो की ओर से बडे पैमाने पर पुष्पवर्षा करने के कारण इटावा का पथसंचलन देशभर मे सुर्खियो मे आ गया था। यही कारण है कि समाजवादी गढ मे भाजपा और उसके सहयोगी संगठन की ताकत लगातार बढती हुई दिखाई दे रही है ।

Posted at: Feb 22 2021 5:22PM

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored

- Sponsored -