Live 7 TV
सनसनी नहीं, सटीक खबर

त्राहिमाम पुकार:बचाईए, मुख्यमंत्री सर….डीजीपी सर….एसएसपी सर, सांस देने वालें पेड़ों को कटने से

झरिया के युवा सामाजिक कार्यकर्ता शशि ने राज्य के मुखिया सहित वरीय अधिकारियों से लगाई गुहार:-

कहा- बोर्रागढ़ ओपी से महज कुछ दूरी पर अवैध रूप से काटे जा रहे है सैकड़ों हरे भरे पेड़:-

कमलेश सिंह ‘ राजा ‘

झरिया:- मुख्यमंत्री सर…डीजीपी सर…. एसएसपी सर…..झरिया विधायक महोदया देश कोरोना महामारी के साथ आॅक्सीजन की कमी से जूझ रहा है और अवैध धंधेबाज पेड़ काट रहे है, इन्हे बचाने की आवश्यकता है सर। कुछ कीजिए सर। अगर इसी तरह पेड़ों की अवैध कटाई होती रही तो एक दिन वायुमंडल से आॅक्सीजन समाप्त हो जाएगा। ये गुहार झरिया से युवा सामाजिक कार्यकर्ता शशि सिंह ने बुधवार को सशक्त सोशल मीडिया ट्विटर व फेसबुक के जरिए संबंधित वीडियो को अपलोड करते हुए राज्य के मुखिया सहित अन्य वरीय अधिकारियों से लगाई है।

पुलिस की मिलीभगत से अवैध धंधेबाज दे रहे घृणित कार्य को अंजाम

वीडियो अपलोड करते हुए लगाए गए गुहार में शशि ने बताया कि झरिया थाना क्षेत्र के बोर्रागढ़ ओपी से महज 500 मीटर की दूरी पर अवैध ईट भट्ठा का निर्माण किया जा रहा है, जिसके तहत पर्यावरण के नियमों को ताक पर रखते हुए स्थानीय पुलिस की मिलीभगत से सैकड़ों हरे भरे पेड़ों को अवैध रूप से काटा जा रहा है। अगर जल्द ही इस पर संज्ञान नही लिया गया तो उक्त क्षेत्र में एक भी हरे भरे पेड़ नही बचेंगे। युवा सामाजिक कार्यकर्ता शशि ने ये भी बताया कि उक्त मामले का वीडियो अपलोड करने व वरीय अधिकारियों से शिकायत करने पर स्थानीय पुलिस के द्वारा उसपर दबाव भी बनाया जा रहा है लेकिन वो इन सब से डरने वाला नही, आखिर किसी न किसी को तो आगे आकर आवाज उठानी ही होगी तभी हमारा पर्यावरण और हमारा अस्तित्व बच सकेगा।

वृक्ष रहेंगे तो पर्यावरण संतुलन बना रहेगा और सांसे चलती रहेगी

जैसा कि हम जानते है की वैश्विक महामारी कोरोनों से बचाव को लेकर पूरे देश में जद्दोजहद की स्तिथि है और वैश्विक आपदा से इस भयावह लड़ाई में लोगों की जान बचाने के लिए आॅक्सीजन एक बड़े हथियार के रूप में शामिल है,लेकिन रोजाना मीडिया रिपोर्ट के अनुसार देश भर के अस्पताल आॅक्सीजन रूपी इस जीवनदायिनी हथियार की कमी से जूझ रहे है, आॅक्सीजन की कमी से कोविड संक्रमित मरीजों की जानें जा रही है, हालांकि केंद्र व राज्य सरकारें लगातार इसके लिए युद्धस्तर पर प्रयासरत हैं, लेकिन 150 करोड़ की भारी जनसंख्या वाले इस देश में क्या सबकुछ तत्काल रूप से उपलब्ध करा पाना संभव है? शायद इस बात की गंभीरता को शशि ऐसे युवा भलीभांति समझ चुके है। पर्यावरणविदों के अनुसार वर्तमान समय में अब अत्यंत जरूरी है की हमसभी जागरूक होकर हरे भरे इन वृक्षों का संरक्षण करें इनके अवैध कटाई के विरुद्ध बुलंद होकर आवाज उठाए ताकि पर्यावरण में संतुलन बना रहे और हमलोगों की सांसे चलती रहें।
3 अ३३ंूँेील्ल३२

Looks like you have blocked notifications!
Leave a comment