Live 7 TV
सनसनी नहीं, सटीक खबर

झारखंड में स्वास्थ्य सुरक्षा सप्ताह की शुरूआत ,पुलिस उतरी सड़कों पर

रांची : झारखंड में गुरुवार को सुरक्षा सप्ताह की शुरूआत हो चुकी है। लॉकडाउन के दूसरे रूप के रूप के रूप में इसको देखा जा रहा है इसको देखते हुए रांची के अल्बर्ट एक्का चौक पर पुलिस की तैनाती की गई है। अल्बर्ट एक्का चौक से विभिन्न रूटों में फ्लैग मार्च किया जा रहा है। रांची में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए सरकार के जारी स्वास्थ्य सुरक्षा सप्ताह का अनुपालन कराने के लिए रांची पुलिस के तरफ से पूरी तैयारी कर ली गई हैं और रांची के मेन रोड में फ्लैग मार्च किया गया। रांची जिले में चप्पे चप्पे पर सुरक्षाबलों को तैनात किया गया हैं ।सरकार से जारी दिशानिर्देश का पूरी तरह पालन हो सके, इसके लिए पर्याप्त संख्या में जवानों की प्रतिनियुक्ति कर दी गई है।रांचीपुलिस के जवान व पदाधिकारी भी तैयार हैं। अब पुलिस-प्रशासन के अधिकारी एक साथ कोरोना वायरस से बचाव को लेकर जारी दिशा-निर्देश से आम लोगों को लाउड स्पीकर के माध्यम से जागरूक भी कर रहे ँं्रू और जो नहीं मानेंगे, उनके विरुद्ध कानून सम्मत कार्रवाई भी होगी। सरकार से जारी दिशा-निर्देश का उल्लंघन करने वालों पर संबंधित थाने में पेनडेमिक एक्ट के अंतर्गत प्राथमिकी भी दर्ज होगी। रांची जिले भर में अतिरिक्त तीन हजार जवानों की तैनाती की गई है, जबकि मजिस्ट्रेट भी लगाए गए हैं। जिला बल के अलावा जैप जवानों की भी प्रतिनियुक्ति की गई है। स्वास्थ्य सुरक्षा सप्ताह का अनुपालन करवाने के लिए पुलिस ने कमर कस ली है। इसका उल्लंघन करने वालों से सख्ती से निपटा जाएगा। बेवजह घरों से निकलने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी
नियमित तौर पर चेकिंग अभियान भी चलेगा
राज्य में कोरोना के विकराल रूप को देखते हुए झारखंड सरकार द्वारा 22 अप्रैल से 29 अप्रैल 2021 तक स्वास्थ्य सुरक्षा सप्ताह के रूप में मनाने का निर्णय लिया है जिसके तहत जरूरत के सामानों की दुकानों के अलावा मोटरसाइकिल के पार्ट्स शराब की दुकान आदि खुले हुए हैं मगर प्रशासन की और से किसी तरह का शक्ति नहीं किए जाने से लोगों का जमावड़ा जहां तहां लगा हुआ है वही सड़कों पर कुछ कुछ यात्री वाहन चल रहे हैं एक दुकानदार अपना दुखड़ा सुनाते हुए कहा कि एक सप्ताह के लॉक डाउन से छोटे तबके के दुकानदारों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है वहीं लॉकडाउन के समर्थन में हम सब हैं मगर सख्ती से पालन होना चाहिए ताकि इसका लाभ मिल सके और कोरोना का चेन टूट सके।

Looks like you have blocked notifications!
Leave a comment