Live 7 TV
सनसनी नहीं, सटीक खबर

चाईबासा : टोंटो जंगल से पांच नरकंकाल बरामद

तीन बच्चों के साथ चार माह से लापता था दंपती

- Sponsored -

चाईबासा/ जगन्नाथपुर : झारखंड के पश्चिमी सिंहभूम जिले में एक जंगल से 5 नरकंकाल बरामद हुए हैं। इसमें तीन बच्चे और एक दंपती शामिल हैं। ये सभी 5 लोग चार महीने से लापता थे। बताया जाता है कि जिले के टोंटो थाना अंतर्गत बाइहातू के रहने वाले ये सभी लोग 13-14 जुलाई, 2020 से लापता थे। इस सिलसिले में पुलिस ने तीन लोगों को हिरासत में लिया है। सूत्रों के अनुसार, जमीन विवाद में सभी 5 लोगों की हत्या करके गांव से करीब 20 किलोमीटर दूर नदी किनारे शवों को दफना दिया गया था। पुलिस ने जांच के दौरान ये नरकंकाल बरामद किये हैं। इस सिलसिले में तीन लोगों को हिरासत में लेकर उनसे पूछताछ की जा रही है। हालांकि, पुलिस फिलहाल इस संबंध में कुछ नहीं बता रही है। पुलिस अधीक्षक अजय लिंडा ने बताया कि मामले में पूछताछ व सत्यापन हो रहा है। सूत्रों ने बताया कि पुलिस ने शव के अवशेष व उनके कपड़े जंगल से बरामद कर लिये हैं। हत्यारों ने सबसे पहले पति की डंडे से हत्या की। इसके बाद कैरा की पत्नी की डंडे से पीटकर हत्या की। वहीं, 10 साल की बच्ची और 6 साल के एक बच्चे की गला दबाकर हत्या की गयी। एक छोटी बच्ची जो गोद में ही थी, को जमीन पर पटककर मार डाला गया। बाइहातू निवासी कैरा लागुरी, उसकी पत्नी व तीन बच्चों के अपहरण का मामला दर्ज कराया गया था। इस मामले में पुलिस के हाथ ठोस सबूत आ गये हैं। इसके आधार पर जंगल क्षेत्र में पुलिस ने छापामारी अभियान चलाया। बाइहातू के ग्रामीणों से भी पूछताछ की जा रही है। एक-दो दिन में पुलिस इस मामले का खुलासा कर सकती है। कैरा के परिजनों ने चाईबासा में धरना-प्रदर्शन कर पुलिस पर मामले की अनदेखी करने का आरोप लगाया था। इसके बाद मामले की जांच में तेजी आयी। कोल्हान डीआइजी व जिला के पुलिस कप्तान भी इस पर विशेष नजर रखे हुए हैं। कैरा लागुरी की बहन नानकी हेस्सा (केंजरा निवासी) के लिखित आवेदन पर 16 सितंबर को सनहा दर्ज किया गया था। हालांकि, बाद में अपहरण का मामला दर्ज हुआ।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored

- Sponsored -