Live 7 TV
सनसनी नहीं, सटीक खबर

ग्रामीणों का  भारी विरोध झेलना पड़ा डीबीएल अधिकारियों को,चालू नही हो पाया कोयला खुदाई

- Sponsored -

राम प्रसाद सिन्हा
पाकुड।अमड़ापाड़ा प्रखंड के पंचुवाड़ा सेंट्रल कोल ब्लॉक में कोयला खुदाई करने आलूबेड़ा पहुंचे दिलीप बिल्डकॉन लिमिटेड के अधिकारियों को ग्रामीण का भारी विरोध झेलना पड़ा।कोयला खुदाई शुरू कराने एवं भूमि पूजन कराने पहुंचे  डीबीएल के अधिकारी सव्यसाची मिश्रा, देवेंद्र झा एवं गौतम सामन्तो को सैकड़ो ग्रामीणों ने कार्य स्थल से खदेड़ दिया।

- Sponsored -

IMG 20220516 WA0070
ग्रामीणों ने भूमि पूजन एवं काम भी चालू होने नही दिया।ग्रामीणों के भारी विरोध की वजह से कोयला की खुदाई करने  पहुंची मशीनों एवं वाहनों को  बैरंग वापस डीबीएल कम्पनी को भेजना पड़ा।विरोध कर रहे ग्रामीण पंजाब स्टेट पॉवर कॉर्पोरेशन लिमिटेड से बकाया भुगतान के बाद ही कोयला खोदाई चालू करने की बात कर रहे है।ग्रामीणों के विरोध को लेकर डीबीएल के लाइजनिंग मैनेजर गौतम सामन्तो ने बताया की गाँव के लोगो के डिमांड की जानकारी पंजाब स्टेट पॉवर कॉर्पोरेशन लिमिटेड को दे दी गयी है।श्री सामन्तो ने बताया कि ग्रामीणों  को सिविल एवं ट्रांसपोर्टिंग का बकाया जल्द  मिले इस बाबत डीबीएल कम्पनी  की तरफ से हर प्रयास किया जाएगा।प्राप्त जानकारी के मुताबिक  आज दिलीप बिल्डकॉन लिमिटेड के अधिकारी  अमड़ापाड़ा के  आलूबेड़ा के कठलडीह सेंट्रल कोलब्लॉक में  कोयला खोदाई चालू करने को लेकर भूमि पूजन करने पहुंचे थे।डीबीएल के प्रोजेक्ट मैनेजर सव्यसाची मिश्रा,देवेंद्र झा, सहित कर्मियों द्वारा भूमि पूजन के लिए नारियल फोड़ा ही गया था कि सैकड़ो की संख्या में ग्रामीण पहुंचे एवं विरोध करना शुरू कर दिया।भूमि पूजन के लिए लाए गए सामानों को फेंक दिया गया एवं खोदाई के लिए लाए गए मशीनों एवं वाहनों को वापस  ले जाने की धमकी दी ।ग्रामीणों द्वारा धक्का मुक्की भी डीबीएल के कर्मियों के साथ किये जाने की खबर है हालांकि कम्पनी के अधिकारियों ने इसकी पुष्टि नही की है।ग्रामीणों के विरोध की वजह से कोयला खदान में काम चालू नही हो पाया है।उल्लेखनीय है कि पंचुवाड़ा सेंट्रल कोल ब्लॉक के 1091 हेक्टेयर जमीन पर अगले 30 साल के लिए खनन पट्टा पंजाब स्टेट पॉवर कॉर्पोरेशन लिमिटेड को  दिया गया ही।यहां से उत्खनित कोयला रेल मार्ग से पंजाब जाएगा।कोयला खोदाई से 9 गाँव प्रभावित होंगे ।पहले यह कोल ब्लॉक पनेम को आवंटित किया गया था।पट्टा रद्द होने के बाद वर्ष 2015 से पंचुवाड़ा सेंट्रल कोल ब्लॉक में कोयला की खुदाई बंद थी।डीबीएल कम्पनी को कोयला खुदाई एवं ढुलाई का जिम्मा मिला है।सात साल पहले कोयला खदान बंद होने के पहले  कराये गये सिविल के साथ ही ट्रांसपोर्टिंग एवं काम करने वाले कर्मियों का भुगतान बकाया रह गया था जिसके भुगतान की मांग  बीते छह महीने से प्रभावित ग्रामीणों सहित कर्मी कर रहे थे।पीएसपीसीएल के अधिकारियों ने बकाया भुगतान का आस्वाशन भी दिया था लेकिन जैसे ही बिना भुगतान किए कोयला खोदाई शुरू किए जाने की जानकारी आज मीली  वे सैकड़ों की संख्या में पहुंचे एवं भूमि पूजन के साथ खोदाई कार्य का विरोध किया
Looks like you have blocked notifications!

- Sponsored -

- Sponsored -

Comments are closed.