Live 7 TV
सनसनी नहीं, सटीक खबर

केंद्र सरकार का बड़ा फैसला:एक मई से 18 वर्ष से अधिक उम्र के सभी लोग लगवा सकेंगे टीका

वैक्सीन बनाने वाली कंपनियां 50 फीसदी सप्लाई केंद्र को करेगी
अब तक 45 वर्ष से अधिक के लोगों को लग रहा था टीका
12.38 करोड़ लोग वैक्सीन का पहला या दूसरा डोज ले चुके हैं
नई दिल्ली : कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच सरकार ने वैक्सिनेशन पर बड़ा एलान किया है। 1 मई से 18 साल से ज्यादा उम्र के सभी लोग वैक्सीन लगवा सकेंगे। सरकार ने यह भी फैसला लिया है कि वैक्सीन बनाने वाली कंपनियां अपनी 50 फीसदी सप्लाई केंद्र को करेंगी। बाकी 50 फीसदी सप्लाई वे राज्य सरकारों को दे सकेंगी या उसे ओपन मार्केट में बेच सकेंगी। वैक्सिनेशन के लिए कोविन के जरिए रजिस्ट्रेशन पहले की तरह जरूरी रहेगा। अब तक 45 साल से ज्यादा उम्र के लोगों को देशभर में कोरोना वैक्सीन लगाई जा रही थी। देशभर में 12.38 करोड़ लोग वैक्सीन का पहला या दूसरा डोज ले चुके हैं। सरकार की ओर से सोमवार शाम को जारी आदेश के मुताबिक, नई पॉलिसी 1 मई 2021 से लागू की जाएगी और इसे जरूरत के मुताबिक रिव्यू भी किया जाएगा।
कंपनियां 50 फीसदी वैक्सीन केंद्र को सप्लाई करेंगी : सरकार ने वैक्सीन निर्माता कंपनियों से कहा है कि फेज-3 में वैक्सीन बनाने वाली कंपनियां महीने में बनने वाली कुल वैक्सीन का 50% केंद्र को सप्लाई करेंगी। बाकी का 50% राज्य सरकारों और ओपन मार्केट में बेचने की छूट रहेगी।
बाजार में बिक्री के लिए टीके की कीमत पहले बतानी होगी
कंपनियों को तय कोटे के मुताबिक 50 फीसदी वैक्सीन राज्यों और खुले बाजार में 1 मई से पहले पहुंचानी होगी। कंपनियों को इसकी कीमत पहले ही तय करनी होगी। इसके बाद राज्य सरकार, निजी अस्पताल, औद्योगिक इकाइयां कंपनियों से सीधे वैक्सीन खरीद सकेंगी। वैक्सीन लगाने वाले प्राइवेट संस्थानों को भी इसका चार्ज पहले से बताना होगा।
अभी चल रहा फ्री कोरोना वैक्सीनेशन जारी रहेगा
सरकार की तरफ से टीकाकरण अभियान पहले की तरह जारी रहेगा। इसके तहत प्राथमिकता वाले ग्रुप्स को फ्री में वैक्सीन लगाई जा रही है। इनमें हेल्थकेयर वर्कर्स, फ्रंटलाइन वर्कर्स और 45 साल से ज्यादा उम्र के लोग शामिल है।
वैक्सीनेशन के लिए तय प्रोटोकॉल का पालन करना होगा
सरकारी और प्राइवेट सेंटर पर होने वाला वैक्सीनेशन राष्टÑीय टीकाकरण कार्यक्रम में शामिल रहेगा। वैक्सिनेशन के लिए तय प्रोटोकॉल का पालन करना होगा। पहले की तरह कोविन पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन होगा। साथ ही, वैक्सीन लगने के बाद इसके गंभीर साइड इफेक्ट्स (एडवर्स इवेंट) की जानकारी भी देनी होगी। सेंटर पर वैक्सीन के स्टॉक और कीमत की जानकारी भी रियल टाइम देनी होगी।
पहली डोज लेने वालों को टीका लगाने में प्राथमिकता
वैक्सीन का पहला डोज ले चुके हेल्थकेयर और फ्रंटलाइन वर्कर्स को वैक्सीनेशन में प्राथमिकता दी जाएगी। वैक्सीन का पहला डोज लेने वाले 45 साल से ज्यादा उम्र के लोगों को भी दूसरा डोज लेने के लिए तरजीह मिलेगी। ये पूरा काम तय रणनीति के साथ किया जाएगा।
केंद्र क्राइटेरिया तय कर राज्यों को वैक्सीन देगा
केंद्र सरकार वैक्सीन के अपने 50 फीसदी कोटे से क्राइटेरिया तय करेगी। सबसे पहले ज्यादा प्रभावित राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को वैक्सीन सप्लाई की जाएगी। वैक्सीन के वेस्टेज पर राज्यों की निगेटिव मार्किंग भी की जाएगी। इसके लिए सभी राज्यों को पहले से जानकारी दी जाएगी।

मुख्य बातें
– प्राथमिकता वाले समूहों को पहले की तरह फ्री वैक्सीन जारी रहेगी
– तीसरे चरण में टीकों की खरीदारी के नियमों में ढील दी गई है
– राज्यों को अब सीधे वैक्सीन बनाने वाली कंपनियों से अतिरिक्त खुराक लेने का अधिकार होगा
– राज्य अब तय कर सकते हैं कि 18 साल से अधिक उम्र के सभी लोगों के लिए टीकाकरण खोलें या कैटेगरी बनाकर
– सरकार वैक्सीन निर्माताओं को प्रोडक्शन बढ़ाने के लिए प्रोत्साहित करेगी
– वैक्सीन निर्माताओं के पास अब अपनी सप्लाई की कुल क्षमता के आधे तक को राज्य सरकारों को भेजने का अधिकार रहेगा

Looks like you have blocked notifications!
Leave a comment